Tanhai Ki Raaton Mein, Alone Shayari – Alone Shayari

0
105


Tanhai Ki Raaton Mein, Alone Shayari

Advertisement

Kuchh To Tanhai Ki Raaton Mein Sahara Hota,
Tum Na Hote Na Sahi… Zikr Tumhara Hota.

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही… ज़िक्र तुम्हारा होता।

Use Pana Use Khona… Usi Ke Hijr Mein Rona,
Yahi Gar Ishq Hai To… Ham Tanha Hi Achchhe Hain.

उसे पाना उसे खोना… उसी के हिज्र में रोना,
यही गर इश्क है तो… हम तन्हा ही अच्छे हैं।

Advertisement

Meri Aankhon Mein Dekh Aakar… Hasrato Ke Naksh,
Khwabo Mein Bhi Tere Milne Ki Fariyaad Karte Hain.

मेरी आँखों में देख आकर… हसरतो के नक्श,
ख्वाबो में भी तेरे मिलने की फ़रियाद करते है।

Kabhi Jab Gaur Se Dekhoge To Itna Jaan Jaoge,
Ki Tumhare Bin Har Lamha Hamari Jaan Leta Hai.

कभी जब गौर से देखोगे तो इतना जान जाओगे,
कि तुम्हारे बिन हर लम्हा हमारी जान लेता है।

You Might Like This:   Sufi Music: The Call of Qawwali for Prayer and Ecstasy

Kitni Ajeeb Hai Is Shahar Ki Tanhai Bhi,
Hajaron Log Hain Magar Koi Us Jaisa Nahin Hai.

कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,
हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है।

Advertisement



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here